अक्षरों का महत्व – Ncert Class 6Th Essay In Hindi

अक्षरों का महत्व – Ncert Class 6Th Essay In Hindi अक्षरों का महत्व – Ncert Class 6Th Essay In Hindi यह पुस्तक अक्षरों से बनी है। सारी पुस्तके अक्षरों से बनी है। तरह-तरह की पुस्तके। तरह-तरह के अक्षर। दुनिया में अब तक करोड़ो पुस्तके छप चुकी है। हजारो पुस्तके रोज छपती है। तरह तरह के…

|

10 Line Essay On Mahatma Gandhi In Hindi

10 Line Essay On Mahatma Gandhi In Hindi  आज के इस लेख में Mahatma Gandhi Essay In Hindi 10 Line में दिया गया है। यदि आप भी महात्मा गाँधी से संबंधित खोज रहे है तो आज का यह लेख आपके लिए उपयोगी होने वाला है। महात्मा गाँधी निबंध आपके साथ साझा कर रहे है। महात्मा गांधी’…

अपठित गद्यांश – What Is Unseen Passage | Apathit Gadyansh

अपठित गद्यांश । हल विधि। अपठित गद्यांश का उदाहरण प्रशन उत्तर के साथ अपठित गद्यांश क्या है? | What Is Unseen Passage | Apathit Gadyansh अपठित का अर्थ न को पढ़ा हुआ अर्थात् गद्य का एक ऐसा अंश जो हमने पहले पो पढ़ा नहीं है अपठित गद्यांश कहलाता है। परीक्षा में अपठित गद्यांश पर आधारित…

सर्वनाम किसे कहते है ? परिभाषा, भेद, प्रकार

सर्वनाम ( Sarvanam&Pronoun In Hindi ) – आज के इस लेख में हम सर्वनाम के बारे में सिखाने वाले है, इस आर्टिकल में सर्वनाम के भेद के बारे में चर्चा करेंगे। यदि आप भी सर्वनाम क्या है ? इसके कितने भेद तथा प्रकार है उनकी परिभाषा क्या है, सर्वनाम की परिभाषा क्या है या फिर सर्वनाम किसे…

संज्ञा किसे कहते है ? संज्ञा की परिभाषा क्या होती है ?

प्रिय दर्शको आज की इस पोस्ट में हम आपको संज्ञा की परिभाषा बता रहे है, इसके साथ-साथ संज्ञा कितने प्रकार की होती है तथा उनकी परिभाषा भी इस पोस्ट में आपको बताने वाले है, तो आइये बिना टाइम व्यर्थ किये हुए आपको संज्ञा किसे कहते है बताते है। संज्ञा किसे कहते है ?किसी व्यक्ति, वस्तु, स्थान,…

अपठित काव्यांश | अपठित पद्यांश का उदाहरण हल सहित

अपठित काव्यांश क्या है ? अपठित काव्यांश किसी कविता अथवा पद्य का वह अंश ( भाग ) है, जो पाठ्यपुस्तक में अध्ययन के लिए निर्धारित किसी भी कविता से संबंधित न हो। परीक्षाओ के अंतर्गत प्रशन-पत्र में पहले न पढ़ी हुयी किसी कविता से 100-150 शब्दों का काव्यांश दिया जाता है तथा उससे संबंधित चार बोधात्मक…

आलेख : आवश्यक लेखन तत्व तथा उदाहरण

लेख से पूर्व ”आ” उपसर्ग जोड़ने से आलेख शब्द बनता है। आलेख निबंध लेखन का ही एक लघु रूप है। ‘आ’ उपसर्ग लेख के सम्यक और सर्वांग-सम्पूर्ण होने को व्यंजित करता है। समाचार पत्रों में कुछ लेख प्रकाशित होते है जो किसी समाचार या घटनाक्रम आदि पर आधारित होते है। ये सम्पादकीय भिन्न होते है।…