अष्टांगहृदयम् आयुर्वेद ग्रंथ पुस्तक | Ashtanga Hridayam Ayurveda Granth PDF Hindi

ashtanga hridayam pdf in hindi को डाउनलोड करने का लिंक हमने पोस्ट के अंत में दे रखा है आप इस लेख को पढ़कर ashtanga hridayam pdf in hindi को डाउनलोड कर सकते है। 

Ashtanga Hridayam Ayurveda Granth PDF Hindi

PDF Name

Ashtanga Hridayam Ayurveda PDF

No. of Pages

387

PDF Size

72.9 MB

Language

Hindi

Category

Hindi Books

Download Link

Available ✔

Downloads

8677

अष्टांग हृदयम पुस्तक हिंदी पीडीएफ | Ashtanga Hridayam Ayurveda Granth Hindi PDF Summary

दोस्तों आज की पोस्ट में हमने आपके लिए Ashtanga Hridayam Ayurveda Granth Hindi PDF / अष्टांगहृदयम् आयुर्वेद ग्रंथ हिंदी पीडीएफ अपलोड किया है। अष्टाङ्गहृदयम्, आयुर्वेद का प्रसिद्ध ग्रंथ है। इसके रचयिता वाग्भट हैं। इसका रचनाकाल ५०० ईसापूर्व से लेकर २५० ईसापूर्व तक अनुमानित है। अष्टांग हृदयम पुस्तक हिंदी पीडीऍफ़ में आपको औषधि (मेडिसिन) और शल्यचिकित्सा दोनो के बारे में पढ़ने को मिलेगा। यह एक संग्रह ग्रन्थ है, जिसमें चरक, सुश्रुत, अष्टांगसंग्रह तथा अन्य अनेक प्राचीन आयुर्वेदीय ग्रन्थों से उद्धरण लिये गये हैं। अष्टांग हृदयम पुस्तक महान आयुर्वेद डॉक्टर महर्षि वाग्भट द्वारा लिखी गई है। वाग्भट ने अपने विवेक से अनेक प्रसंगोचित विषयों का प्रस्तुत ग्रन्थ में समावेश किया है। चरकसंहिता, सुश्रुतसंहिता और अष्टाङ्गहृदयम् को सम्मिलित रूप से वृहत्त्रयी कहते हैं। इस पोस्ट में आप बड़ी आसानी से Ashtanga Hridayam Ayurveda Granth Hindi PDF / अष्टांगहृदयम् आयुर्वेद ग्रंथ हिंदी पीडीएफ डाउनलोड कर सकते हैं।

ashtanga hridayam pdf in hindi
ashtanga hridayam pdf in hindi

अष्टांग हृदयम पुस्तक यह ग्रंथ स्वास्थ के आधार पर है की किसी भी मनुष्य को किस तरह से खाना पीना, रहना सहना चाहिए आदि। ऐसे तो इस ग्रंथ को कब रचना हुआ कोई प्रमाण नहीं मिला है, लेकिन अनुमानत: माना जाता है कि इस ग्रन्थ का रचनाकाल ५०० ईसापूर्व से लेकर २०० ईसापूर्व तक है।

अष्टांग हृदयम पुस्तक हिंदी PDF – Highlights

Particulars

 eBook Details

Name of Book

 Ashtanga Hridayam Ayurveda Granth

Name of Author

Maharishi Vagbhata

 Language of Book

 Hindi

Size of Book

  73 MB

Total Pages

 387

वाग्भट एक प्रसिद्ध ग्रंथ रचनाकार हैं ,जो अष्टांगहृदय तथा अष्टांगसंग्रह जैसे पवित्र ग्रंथ का रचना किए हैं। इनका जन्म सिंधु देश में हुआ , ऐसा अष्टांगसंग्रह में दर्शाया गया है। वाग्भट के पिता का नाम सिद्धगुप्त था ! ये बौद्ध धर्म को माननेवाले थे, ऐसा ग्रंथ में दर्शाया गया है एवं इनके गुरु का नाम अवलोकितेश्वर है।

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर के आप Ashtanga Hridayam Ayurveda Granth Hindi PDF / अष्टांगहृदयम् आयुर्वेद ग्रंथ हिंदी पीडीएफ डाउनलोड कर सकते हैं।

DOWNLOAD PDF

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *