Monday, September 6, 2021

अलसी क्या है इसके फायदे एवं नुकसान - Flax Seeds In Hindi

अलसी क्या है इसके फायदे एवं नुकसान- flax seeds in hindi

 

Flax Seeds In Hindi
Flax Seeds In Hindi

Flaxseed को आप जानते ही होंगे यह हमारे घर में प्रयोग की जाति है | कई व्यंजन ऐसे भी है जिनमें इसका उपयोग किया जाता है | इसके बीज अत्यधिक छोटे होने के कारण इनमे कई गुण पाए जाते हैं | अलसी के बीज का उपयोग केवल खाने वाली में वस्तुओ में किया जाता है उससे का रोगों का इलाज भी किया जाता है |

 

अलसी क्या है - flax seeds in hindi

 

Flaxseed को एक अन्य नाम टी सी से भी जानते हैं यह एक प्रकार की जड़ी बूटी है जिसे और उसी का के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है | अलग-अलग जगह पर अलसी के बीजों के रूप आकार और प्रकृति में अंतर पाया जाता है | देशभर में Flaxseed के पीले लाल सफेद एवं हल्के काले रंग के Flax seeds पाए जाते हैं जिन प्रदेशों में अधिक गर्मी होती है उस जगह अलसी सबसे अच्छी मानी जाती है लोग अलसी के बीजों का उपयोग आमतौर पर तेल के उपयोग में करते हैं इसके प्रयोग से गला का सांस पाचन तंत्र आदि रोगों में लाभ प्राप्त किया जा सकता है | तीसी का वानस्पतिक नाम लाइनम यूसीटैटीसिमम है, और यह लाइनेसी कुल की है।

 

अलसी को अलग-अलग भाषाओं में अलग अलग नाम से जाना जाता है - Flax Seeds In Hindi

 

हिंदी में -  तीसी, अलसी

 

उर्दू में  - अलसी

 

इंग्लिश में  - लिंसीड, फ्लेक्स प्लांट

 

संस्कृत में -  उमा, नीलपुष्पिका, मसरीना, पार्वती

 

अलसी के फायदे - Benefits Of Flax seed In Hindi

नींद ना आने के लिए

 

नींद ना आने के लिए Flaxseed का सेवन फायदेमंद होता है | इसके लिए हमें अलसी का प्रयोग तिल के तेल में मिलाकर इसको कांसे की थाली में पीस लें और इसको आंखों में जिस प्रकार हम काजल लगाते हैं उसी प्रकार इसको लगा ले जिससे हमें अच्छी नींद की प्राप्ति होगी |

 

 

 

 

आंखों के रोग के लिए

 

अलसी आंख संबंधी बीमारियों में भी हमारे लिए बहुत फायदेमंद साबित होती है जैसे आंख से पानी निकलना, दिखाई कम देना आदि को सही करने के लिए अलसी के बीजों को पानी में डुबोकर रख दें और सुबह इसके पानी को अपनी आंखों में डालें तो आपकी आंखों की समस्या समाप्त होने में सहायता मिलेगी |

 

दर्द एवं सूजन में

 

अलसी का उपयोग करने से हमें दर्द और सूजन में भी लाभदायक है | दर्द और सूजन में अलसी की गीली दवा फायदेमंद होती है | इसमें अलसी को काटकर उबलते हुए पानी में डालकर धीरे-धीरे खिलाएं तब तक यह गीली ना हो जाए लेकिन ध्यान रहे यह बिल्कुल गाढ़ा नहीं होना चाहिए | आपको जिस जगह पर दर्द या सूजन है उस जगह पर इसको लगाएं इससे आप के दर्द और सूजन की समस्या दूर होगी |

 

 

सिर दर्द के लिए

 

सिर दर्द एक ऐसी समस्या है जो आजकल हर तीसरे घर में देखने को मिल जाती है जिससे अधिकतर लोग परेशान हैं |अलसी का उपयोग करके हम एक आसान घरेलू उपाय से इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं | इसके लिए हमें

अलसी के बीजों को ठंडे पानी में पीस लें पीस ले जिसके बाद इसका लेप करें सर पर जिससे आपके सिर दर्द में बहुत आराम मिलेगा |

 

जुखाम के लिए

 

जो भी व्यक्ति जुखाम से परेशान है वह तीसी उपयोग कर सकता है इसके लिए उसको अलसी को तय पर भूलना ढूंढना जब तक यह जब तक इसमें से गंध आने ना लगे तब तक इसे ढूंढना है और फिर ऐसे पीस लें जितनी आपने अलसी ली है उसी के बराबर मिश्री मिला लें और इसका सेवन गर्म पानी में सुबह शाम करें जिससे आपके जुखाम में बहुत ही फायदा प्राप्त होगा |

 

 

खांसी और अस्थमा के लिए

मौसम बदलने के कारण हमें खांसी की समस्या उत्पन्न हो जाती है इसको सही करने के लिए हम अलसी का उपयोग कर सकते हैं | अलसी के बीज खाने से खांसी और दमा रोग में फायदा मिलता है | इसको सुबह शाम लेने से खांसी एवं अस्थमा में फायदा होता है | अलसी के बीजों को तवे पर भूमि कर उनको हनी के फायदे साथ खा ले इससे आपकी खांसी और अस्थमा का इलाज हो सकता है |

 

 

 

थायराइड के उपयोग में

आप यदि थायराइड के रोग से ग्रसित हैं तो आप अलसी का उपयोग कर सकते हैं | यह आपके लिए बहुत ही लाभदायक साबित होगा इसके इसका पूरा फायदा उठाने के लिए आप को बराबर मात्रा में अलसी के बीज सरसों सहजन के बीज मूली के बीज को छाछ के साथ पीसकर पेस्ट बना लें इससे इसका सेवन करने से आपके थायराइड में बहुत ही लाभ प्राप्त होगा |

 

आग से जलने पर

अलसी का प्रयोग उन व्यक्तियों के लिए भी लाभदायक है | जो व्यक्ति किसी आग में जिनकी किसी शरीर का अंग आग से जला हुआ हो उसके लिए शुद्ध अलसी का तेल और चूने का नित राजल इन दोनों को बराबर मात्रा में मिला ले | यह एक सफेद मलहम जैसा तैयार हो जाएगा | इसे अंग्रेजी में Carron oil कहा जाता है | जिसका प्रयोग आग से जले हुए स्थान पर लगाने के लिए किया जाता है | इसका रोजाना एक या दो बार घाव पर लेप की तरह करें |

 

टीवी में अलसी का उपयोग

जिन लोगों को टीवी की समस्या है वह इसका उपयोग कर सकते हैं | जिसके लिए उन्हें अलसी के बीजों को पीसकर शाम को ठंडे पानी में भिगोकर रख दे और सुबह उस पानी को हल्का सा गर्म कर ले फिर उसमें नींबू मिलाकर उसका सेवन करें इससे आपके आपकी टीवी की समस्या को समाप्त हो जाएगी |

 

जोड़ों के दर्द में

जोड़ों के दर्द में भी अलसी का उपयोग किया जाता है इसमें अलसी के तेल को एवं अलसी के बीजों को पीसकर इसका लेपन करने से जोड़ों के दर्द से होने वाली समस्या में आराम प्राप्त होता है |

 

 

अलसी से होने वाले नुकसान - flax seeds in hindi

अलसी के फायदा होने के साथ-साथ इसके कई नुकसान भी है

दस्त

अगर अलसी का उपयोग सही मात्रा में किया जाए तो इससे हमारी कब्ज की समस्या दूर हो जाती है लेकिन इसका ज्यादा मात्रा में करना हमारी दस्त की समस्या का कारण बन सकता है |

एलर्जी

अधिकतर लोगों को अलसी खाने से एलर्जी की शिकायत होती है अलसी का अधिक मात्रा में उपयोग करने से हमें सांस लेने में समस्या हाई ब्लड प्रेशर हो सकता है |

प्रेगनेंसी के समय

यदि कोई महिला प्रेग्नेंट है तो उसे अलसी के बीजों का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे जन्म लेने वाले बच्चे और उसकी मां दोनों को ही नुकसान पहुंच सकता है |